शनिवार, 19 मई 2018

तुम अगर साथ दो

---------------------------------
तुम अगर साथ दो तो,सम्हल जाऊँगा।
मुश्किलों के भँवर से निकल जाऊँगा।

जिंदगी के सफर में है,फिसलन बहुत
थाम लो हाथ वरना फिसल जाऊँगा।

मैं समंदर हूँ गर,तुम हो लहरे मेरी,
मैं गजल हूँ अगर,तुम हो बहरें मेरी।।

मैं बदन हूँ वो जिसका,तुम्ही
रूह हो
साथ छोड़ोगे गर,तो मैं मर जाऊँगा!!

धोखे खाकर सदा ही,मैं
रोता रहा
पीकर आँसू सदा ,प्रेम
बोंता रहा

पीर सहकर मेरा दिल है
पत्थर हुआ
प्यार पाकर तुम्हारा, पिघल जाऊँगा!

मुद्दतो से थी रूठी,ये
मुस्कान है
जाने गुम थी ,कहां मेरी
पहचान है

हाथ थामा है गर,तो ये वादा रहा
मैं वो मौसम नही जो बदल जाऊँगा।

रविवार, 13 मई 2018

सम्पूर्ण सृष्टि है माँ

दुःख के मरुस्थल में,राहत की वृष्टि है माँ !
दया,प्रेम,करुणा,ममता की दृष्टि है माँ !
धरती और आसमान की सीमा में न बांधो उसे
मेरी नजरों में स्वयं में सम्पूर्ण सृष्टि है माँ!!

गुरुवार, 10 मई 2018

"बनना है उन्हें शूल"

"बनना है उन्हें शूल"
🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹
इंसानियत की बात अब करना फिजूल है ।
हैवानियत ही बन गयी अब तो उसूल है ।

हर रोज लूट रही है बेटियों की अस्मतें
माँगने पे न्याय कहते है,तुम्हारी ही भूल है!

दरिंदों को नही डर कोई,कानून का यहाँ
शैतान को ही मानते,ये अपना रसूल है!

कितने बने कानून पर,यह धूल नही सका
कबसे जमा हुआ जो,वासना का धूल है!

जो घूरतें है बेटियाँ,औरों की वे सुनले
पाते नही वे आम जो,बोते बबूल है!

सब बेटियों को पाठ यह,माँ बाप सीखा दें
बनना है उन्हें शूल,न कि बनना फूल है !

अपराध तो अपराध है,नही रंग दो इसको
क्यों मौन हो गीता पे औ असीफा पे तूल है!
🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹

सोमवार, 7 मई 2018

खलनायक जिन्ना

देशद्रोही हरपल नया निशाना ढूँढने में लगे है !
देश जलाने नित नया बहाना ढूँढने में लगे है !
लहू उबाल मार रहा है मक्कारी का इनमें रह रहक,
खलनायक "जिन्ना"में अब ये नाना ढूँढने में लगे है !!

आग लगाने देश में,,,,

देशद्रोही है वे जो हरवक्त नया निशाना ढूँढते रहते है !
आग लगाने देश में नित नया बहाना ढूँढते रहते है !
उबाल मारता है जब भी लहू इनमें मक्कारी का,
इशरत में बहन और जिन्ना में नाना ढूँढते रहते है !!

रविवार, 6 मई 2018

तेरे बदलने की आशा में,,,,

आँखों और नींदों का था,वह साथ अनूठा छूट गया !
अधरों संग मुस्कानों का,बंधन भी प्यारा टूट गया !
तेरे बदलने की आशा में,गम सारे ही सहता आया
बहुत संभाला पर आखिर में,बांध सब्र का फूट गया !!

शुक्रवार, 4 मई 2018

भारती का बेटा


*************************************
भारती का बेटा है तू,तेज है प्रखर तेरा
यही है आशीष दुनिया में तेरा नाम हो
कर्म ऐसे हो कि माता-पिता का सम्मान बढ़े
संस्कारों से तू दशरथ नंदन राम हो|
वीरता प्रताप की ले रिपुओ का नाश करे
देशधर्म तेरे लिए सर्वोंपरी काम हो
इरादे हो दृढ़ जैसे अडीग हिमालय है
हर लक्ष्य तेरे लिए चुटकी का काम हो|
**************************************